LIC Policy : मैच्योरिटी से पहले करना चाहते हैं पॉलिसी सरेंडर, ये हैं प्रोसेस

You are currently viewing LIC Policy : मैच्योरिटी से पहले करना चाहते हैं पॉलिसी सरेंडर, ये हैं प्रोसेस

अगर आप अपने वर्तमान में चल रहे बीमा पॉलिसी से खुश नहीं हैं तो LIC आपको सरेंडर की सुविधा देती है, बसर्ते पॉलिसी अवधि 3 वर्ष पूरी होनी चाहिए इस आर्टिकल में आप LIC Policy Surrender को आसान शब्दों में समझेंगें.

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी है, यह अपने ग्राहकों के जरुरत व आय के आधार पर नई-नई पॉलिसियां लाती रहती है.

अगर किसी कारणवश पॉलिसीधारक को पॉलिसी पसंद नहीं आती तो वह उसे सरेंडर भी कर सकता है, अगर 3 साल तक प्रीमियम पटाया गया है तो पॉलिसी को सरेंडर किया जा सकता है.

यह पढ़ें : पेंशन के लिए LIC की बेस्ट पॉलिसी – जीवन अक्षय

सरेंडर वैल्यू

एलआईसी के नियमों के अनुसार अगर कोई पॉलिसी धारक 3 साल तक प्रीमियम दे चूका है, तो उसे सरेंडर वैल्यू प्राप्त हो जाएँगी, सरेंडर वैल्यू का कैलकुलेशन दिए गए प्रीमियम + बोनस, सरेंडर वैल्यू के एक्स फैक्टर के साथ गुना कर दिया जाता है.

यह याद रखें की पहले साल चुकाए गए प्रीमियम का एक भी रुपया सरेंडर वैल्यू में एड नहीं होता, इसलिए जितनी अधिक लम्बी अवधि में सरेंडर किया जायेगा उतना अधिक फायदा होगा.

सरेंडर के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • पॉलिसी बांड
  • सरेंडर फॉर्म
  • LIC NFET फॉर्म
  • बैंक डिटेल्स
  • आधार कार्ड
  • केंसिल चेक
  • सरेंडर करने का कारण, एप्लिकेशन

सरेंडर का प्रोसेस

  • सबसे पहले अपने LIC ब्रांच में जाकर सरेंडर फॉर्म NEFT भरें
  • पॉलिसी बांड में पेन कार्ड अटैच करें
  • पॉलिसी छोड़ने का कारण एप्लिकेशन लगाए
  • इसके पश्चात् LIC सभी दस्तावेजों को चेक करेगी और आपके पैसे वापस हो जायेंगें

यह पढ़ें : LIC Policy : एलआईसी की नई स्कीम ‘धन वृद्धि योजना’ जानिए क्या है इसके फायदे

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now

Leave a Reply